Bhajans In Hindi – हिंदी में भजन

Bhajans in Hindi – हम हिंदी भाषा में भजन प्रदान कर रहे हैं, भगवान (GOD) के भजन गीत जो हर किसी के दिन को सुंदर बनाने में मदद करेंगे। Read and Share Bhajans In Hindi, Shabads.

भजन (Bhajans In Hindi) – भजन का हिंदी अर्थ भगवान या देवता आदि की स्तुति में रचित गीत या पद; पूजागीत; भक्तिगीत। भजन में आम तौर पर दो संगीत-काव्य भाग होते हैं: ध्रुव-पाद और पद । ध्रुव-पाद भजन की शुरुआत में और प्रत्येक बाद के पद या पद्य (एक तुकबंदी वाला दोहे) के बाद गाया जाने वाला दोहा है। आमतौर पर, कलाकार प्रत्येक पद और ध्रुव-पाद को दोहराते हैं। Look Out for Bhajans In Hindi for mental peace.


Bhajans In Hindi

भज गोविन्द

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला।
श्री कृष्ण कन्हैया मोरे नन्द लाला ।
भज गोविन्द गोविन्द गोपाला।।

मात यशोदा दहीया बलोवे,
माखन खवैया मोरे नन्द-लाला । ।

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला
वृंदा बन की कुंज गलिन में,
बांसरी बजाओ मोरे नन्द लाला ।

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला
वृंदा बन की कुंज गलिन में,
रास रचाओ मोरे नन्द लाला ।

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला
यमुना जी के नीरे तीरे,
गवा चराओ मोरे नन्द लाला।

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला
m मीरा के प्रभु गिरधर नागर,
नाग शरण में राखो हमे नन्द लाला ।

भज गोविन्द गोविन्द गोपाला।
श्री कृष्ण कन्हैया मोरे नन्द लाला ।
भज गोविन्द गोविन्द गोपाला।।


राधे तू राधे

राधे तू राधे, राधे तू राधे, तेरा नाम रटूं मैं,
हर पल तेरे साथ रहूँ मैं

सावन का महिना होगा उसमें होंगे झूले,
राधे तू झूले, तेरी डोर बनूँ मैं.. तेरी डोर बनूँ मैं
हर पल तेरे साथ रहूँ मैं

बाधो का महिना होगा उसमें होंगे बादल,
राधे तू बादल, राधे तू बादल, तेरा नीर बनूँ मैं,
तेरा नीर बनूँ मैं हर पल तेरे साथ रहूँ मैं

कार्तिक का महिना होगा उसमें होंगे दीपक
राधे तू दीपक, राधे तू दीपक,
तेरी ज्योत बनूँ मैं
तेरी ज्योत बनूँ मैं
हर पल तेरे साथ रहूँ मैं

फागुन का महिना होगा उसमें होगी होली,
राधे तू होली, राधे तू होली तेरा रंग बनूँ मैं,
तेरा रंग बनूँ मैं
हर पल तेरे साथ रहूँ मैं

राधे तू राधे, राधे तू राधे तेरा नाम रटूं मैं,
हर पल तेरे साथ रहूँ मैं


राम नाम के हीरे-मोती

राम नाम के हीरे-मोती, मैं बिखराऊं गली-गली
ले लो रे कोई राम का प्यारा शोर मचाऊं गली-गली
बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम-राम-राम
बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम-राम-राम

माया के दीवानो सुन लो, इक दिन ऐसा आएगा
धन-दौलत और माल खजाना, यहीं पड़ा रह जाएगा
सुंदर काया मिट्टी होगी,
चर्चा होगी गली-गली ले लो रे कोई राम

क्यों करता तू मेरा-मेरी यहां तो तेरा मकान नहीं
झूठे जग में फंसा हुआ है, वह सच्चा इंसान नहीं
जग का मेला दो दिन का है,
अंत में होगी चला चली ले लो रे कोई राम

जिन-जिन ने यह मोती लूटे, वह तो मालामाल हुए
धन-दौलत के बने पुजारी, आखिर वह कंगाल हुए
चांदी-सोने वालो सुन लो,
बात सुनाऊं खरी-खरी ले लो रे कोई राम

इस दुनिया को कब तक पगले, तू अपनी कहलाएगा
ईश्वर को तू भूल गया है, अंत समय पछताएगा
दो दिन का यह चमन खिला है, फिर मुरझाए कली-कली
ले लो रे कोई राम का प्यारा शोर मचाऊं गली-गली

बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम
बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम-राम-राम


संकट मोचन हनुमानाष्टक

।। मत्तगयन्द छन्द ।।
बाल समय रवि भक्ष लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारी ।
ताहि सो त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सो जात न टारो II
देवन आनी करी बिनती तब, छांड़ि दियो रवि कष्ट निवारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||१||

बालि की त्रास कपीस बसै गिरी, जात महाप्रभु पंथ निहारो
चौंकि महामुनि साप दियो तब, चाहिए कौन विचार विचारी ।।
के द्विज रूप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के सोक निवारी को
नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||२||

अंगद के संग लेन गये सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो ।
जीवत न बचिहौं हम सों जुं, बिना सुधि लाए इहां पगुधारो ।।
हेरि थके तट सिंधु सबै तब, लाय सिया सुधि प्रान उबारो I
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||३||

रावन त्रास दई सिय को तब, राक्षासि सो कहि सोक निवारो ।
ताहि समय हनुमान महाप्रभु, जाय महा रजनीचर मारो चाहत
सीय असोक सों आगि सु, दै प्रभु मुद्रिका सोक निवारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||४||

बान लग्यो उर लछिमन के तब, प्रान तजे सुत रावन मारो।
लै गृह वैद्य सुषेन समेत तबै गिरि दोन सु बीर उपारो ।।
लानि सजीवन हाथ दई तब लछिमन को तुम प्राण उबारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||५||

रावन जुद्ध अजान कियो तब, नाग की फांस सबै सिर डारो ।
श्री रघुनाथ समेत सबै भयो बदल, मा यह संकट भा
आनि खगेस तबै हनुमान जु, बन्धन काटि सुत्रास निवारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||६||

बंधु समेत जबै अहिरावन, लै रघुनाथ पताल सिधारी
देविहिं पूजि भली विधि सो बलि, देउ सबै मिलि मंत्र विचारो
जाय सहाय भयो तब ही, अहिरावन सैन्य समेत संहारी को नहीं
जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||७||

काज किए बड़ देवन के तुम, बीर महाप्रभु देखि विचारो
कौन सो संकट मोर गरीब को, जो तुमसो नहिं जात है टारो ।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकट मोचन नाम तिहारो ||८||

दोहा: लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर ।
बज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ।।


मेरा भोला है भंडारी
मेरा भोला है भंडारी, करे नंदी कि सवारी ।
सबना दा रखवाला ओ शिवजी, डमरूवा वाला जी डमरूवा वाला,
ऊपर कैलाश रहंदा भोले नाथ जी, धर्मियो जो तारदे शिवजी,
पापिया जो मारदा जी, पापिया जो मारदा,
बड़ा ही दयाल मेरा भोले अमली,

ॐ नमः शिवाय शम्भो,
ॐ नमः शिवाय,
महादेवा तेरा डमरू डम डम,
डम डम बजतो जाए रे,
हो महादेवा महादेवा,

ॐ नमः शिवाय शंभू ॐ नमः शिवाय ।।


श्री कृष्णा भजन
श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा ॥
हे नाथ नारायण… ॥
एक मात स्वामी सखा हमारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा ॥ हे नाथ नारायण…॥
॥ श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी…॥

बंदीगृह के तुम अवतारी
कही जन्मे कही पले मुरारी
किसी के जाये किसी के कहाये
है अद्भुद हर बात तिहारी ॥ है अद्भुद… ॥

गोकुल में चमके मथुरा के तारे
हे नाथ नारायण वासुदेवा ॥


जय कृष्ण हरे
जय कृष्ण हरे श्री कृष्ण हरे
दुखियों के दुख दूर करे जय जय जय कृष्ण हरे

जब चारों तरफ़ अंधियारा हो आशा का दूर किनारा हो
जब कोई ना खेवन हारा हो तब तू ही बेड़ा पार करे
तू ही बेड़ा पार करे जय जय जय कृष्ण हरे

तू चाहे तो सब कुछ कर दे विष को भी अमृत कर दे
पूरण कर दे उसकी आशा जो भी तेरा ध्यान धरे
जो भी तेरा ध्यान धरे जय जय जय कृष्ण हरे

Chalisa in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *